स्मार्टफोन के ब्लास्ट की ख़बरों से हैं भयभीत, तो ऐसे बचाये अपने फ़ोन को


बाजार में अनेक कंपनियों ने बढ़ते कॉम्प्टीशन के मद्देनजर कई नयी तरह की तकनीकों को बाजार में उतारा है। लेकिन इनमें से कई नयी तकनीकों से नुकसान हो रहे है।

जी हां कुछ समय से फोन के ब्लास्ट होने की घटनाओं का बाजार गर्माया हुआ है। हाल ही में रिलायंस जियो लाइफ वाटर1 में भी धमाके की खबर सामनें आई थी।\


वहीं सैंमसंग जैसी कंपनी का हाल ही में लॉन्च हुए फ्लैगशिप स्मार्टफोन नोट-7 में भी कुछ ऐसी ही तकनीक खामियों के चलते आग लगनें के कई मामले सामने आए है।


सैमसंग ने इन सभी फ़ोनों को आपमें खर्च पर वापस मंगा रहा है। इन घटनाओं के पीछे का कारण जब सामनें आता है तो यूजर्स को डर लगने लगता है। मोबाइल को चार्ज करते समय, या कभी चार्जिग के वक्त कोई फोन कॉल करने या फिर रिसिव करने जैसे मामूली कारण भी इन घटनाओं की वजह बन जातें है।


तो आइए जानते है मोबाइल फोन को फटने से बचानें के लिए हम यूज़र्स क्या कर सकते है?



1. सिर्फ और सिर्फ ओरिजनल बैट्री और चार्जर का इस्तेमाल- 
कभी भी फोन में लोकल चार्जर या बैट्री का इस्तेमाल न करें। हमेशा ओरिजनल प्रोड्क्ट का इस्तेमाल करें।

2. कवर को हटाएं- 
फोन को चार्ज करनें के दौरान कवर निकाल दें।

3. गर्म जगह में न रखे
कभी भी अपने मोबाइल को हॉट एरिया में न रखे। इससे फोन का तापमान बढ़ जाता है। और उसके बाद उसके यूज करनें पर खतरा बना रहता  है।

4. चार्जिंग के दौरान बात न करें
फोन को जब भी चार्ज करें तो उसका उपयोग न करें। इससे फोन में आग लगनें की संभावना बनी रहती है।

5. कम से कम 30% रखे चार्ज- 
फोन में लो बैट्री न होने दे। हमेशा फोन को चार्जिगं पर लगाने के बाद कम से कम 30 प्रतिशत तक चार्ज होने दे।

6. फुल चार्ज होने के बाद चार्जर से तुरंत अलग करें- 
फोन को ओवरचार्ज करनें से बचें। ओवरचार्ज करनें से फोन में खराबी होने की संभावना अधिक रहती है। साथ ही उसके तापमान में बढ़ोतरी होने के  कारण वह ब्लास्ट भी हो सकता है।


स्मार्टफोन के ब्लास्ट की ख़बरों से हैं भयभीत, तो ऐसे बचाये अपने फ़ोन को Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Dheeraj Raghuvanshi

1 Comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल शुक्रवार (09-09-2016) को "हिन्दी, हिन्द की आत्मा है" (चर्चा अंक-2460) पर भी होगी।
    --
    चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
    जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं