इंटरनेट पर विज्ञापनों से परेशान है? करें ये उपाय


क्या आप अनचाहे विज्ञापनों से परेशान है? 

इंटरनेट पर बढ़ते विज्ञापनों की भरमार को हम सब देख ही रहे है| समाचार हो या कोई और वेबसाइट पाठ्य सामग्री से ज्यादा विज्ञापन ही दिखाई देते है, यूट्यूब पर वीडियो देखो तो पहले विज्ञापन ज़रुर दिखाई देंगे| 


कितना अच्छा हो कि हमें विज्ञापन न देखने पड़ें ?

कितना अच्छा हो कि जब भी हम किसी वेबसाइट पर जाएँ, हमें सिर्फ काम की सामग्री दिखाई दे और बेकार के विज्ञापनों और पॉपअप विज्ञापनों को बंद करने में हम समय न खर्च हो|

कितना अच्छा हो कि यूट्यूब पर वीडियो देखने से पहले हमें विज्ञापन के पूरा होने का इंतजार न करना पड़े|

क्या ये संभव है? 

जी हाँ ये संभव है|

इस उपाय से पायें अनचाहे विज्ञापनों से छुटकारा 



  1. इस वेबसाइट पर जाएँ : https://adblockplus.org/
  2. यहाँ से Adblock Plus टूल को डाउनलोड कर अपने ब्राउज़र पर इनस्टॉल करें 

इस टूल के इनस्टॉल होने के बाद आप जब भी किसी वेबसाइट पर जायेंगे, आपकी उस वेबसाइट के विज्ञापन ब्लॉक हो जायेंगे और आप सिर्फ उस वेबसाइट पर आपने काम की सामग्री बिना किसी रूकावट के ब्राउज कर सकते है|


इंटरनेट पर विज्ञापनों से परेशान है? करें ये उपाय Rating: 4.5 Diposkan Oleh: Kheteshwar Boravat

6 Comments:

  1. आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल शुक्रवार (04-03-2016) को "अँधेरा बढ़ रहा है" (चर्चा अंक-2271) पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. Fantastic...though highly philosophical and it's Reayality of Butyfull LIFE and very simple.
    वाह क्या बात है जैसे भगवानने कलयुग की रचना करके लोगो को अपने पैरों पर खडे रहना सीखा रहे है। धन्यवाद। असल में मनुष्य ऐसी स्थिति मे वह स्वयं से स्वयं क्रोधित रहता है और जैसे आदत पडी है मनुष्यो की इन्द्रियो से बाहर झांकने की तो, सारी समझ भी बाहरी होती है, जो मनुष्य को अधोगति की ओर ले जाती है। जो " सांसे, वायु अन्न से बनते प्राण उलट फिर जाए अंदर की ओर, तो प्राण मस्तिष्क की ओर बढने लगते है " और समझ मनुष्यों की खुल जाती है अंदर से, जो ऊर्ध्वगामी जीवन है। फिर पूरा जीवन ही बदलने लगता है, कुछ भी हो जाए पर मनुष्य बाहर कभीभी कोई फरीयाद और कुछ नही करेगा जो कीसी जीव को संताप हो। उसे पता लग जाता है ! "बाहर मृत्यु है" और " जीवन अंदर है " " बाहरी जीवन परमात्मा मां का प्रतिबिंब है " और " अंदर परमात्मा स्वयं है "। बस जीवन मे मनुष्यों का इतना साक्षात्कार कर लिया के वे स्वयं हि संत, महात्मा, ऋषि, मूनि, तपस्वी, योगी, जोगी बन जाते है स्वयं ही भगवान के अवतार कहलाते है जैसे आजतक जो हो गये है अवतार चाहे जीतने नाम लिखलो, गिनलो धन्यवाद। सद्गुरु गरुवर नमो नम:

    उत्तर देंहटाएं
  3. एक ब्लॉगर के लिए सबसे important ads ही होता है,,, और यह भी मत भूलिए की आपने खुद अपने ब्लॉग पर इतने सरे ads लगाये हैं ,,, डाउनलोड बटन specially pareshan करने वाला ad है

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. ये भी आपकी बात सही है, लेकिन यदि कोई व्यक्ति एड नहीं चाहता तो ये विकल्प उनके लिए बहुत काम की चीज है।

      मैं आपकी बात से सहमत हूँ कि एड ब्लॉगर और वेबसाइट की आय के लिए आवश्यक है।

      हटाएं
    2. चलिए अच्छी बात है ,, वैसे आपके ब्लॉग के सभी पोस्ट बेहतरीन है ,, एक बार मेरे ब्लॉग पर अवश्य पधारें ...

      हटाएं